प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए नरम रुख अपनाने को लेकर चर्चा में रहने के बाद एनसीपी नेता शरद पवार ने भाजपा को निशाने पर लिया है। उन्होंने दावा किया कि मोदी 2019 लोकसभा चुनाव के बाद प्रधानमंत्री नहीं रहेंगे। पवार ने सीबीआई विवाद को लेकर भी मोदी सरकार को घेरा।

एनसीपी नेता ने एक निजी चैनल के कार्यक्रम में कहा कि वह राजनीति में गठबंधन के पक्षधर हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा को रोकने के लिए गैर-बीजेपी दलों का साथ आना जरूरी है। यूपी में एसपी-बीएसपी को साथ आना चाहिए और महाराष्ट्र में भी महागठबंधन होना चाहिए। पवार ने दावा किया कि 2019 का लोकसभा चुनाव का परिणाम 2004 की तरह होगा, जिसमें किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला था, फिर भी मनमोहन सिंह के नेतृ्त्व में एक सरकार 10 साल तक रही।

पवार ने राफेल को अच्छा लड़ाकू विमान बताते हुए कहा कि यह देश की रक्षा के हित में है। उन्होंने राहुल गांधी के आरोपों की तर्ज पर पूछा कि मोदी सरकार बताए कि राफेल विमान के दाम 570 करोड़ रुपए से बढ़कर 1600 करोड़ रुपए कैसे हो गए। इस मामले पर मोदी सरकार की जेपीसी जांच की हिम्मत क्यों नहीं पड़ रही है? एनसीपी नेता ने चुटकी ली कि फ्रांस के राष्ट्रपति पर मार्केटिंग का दबाव है और उनकी मजबूरी अपने देश के प्रोडक्ट को बेचने की है, लिहाजा उनसे ज्यादा उम्मीद नहीं की जा सकती।

पवार ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जिक्र करते हुए कहा कहा कि मुझे लगता है कि वह भारतीय जनता पार्टी के सबसे बड़े नेताओं में से एक थे, आज पार्टी में वो स्थिति नहीं है। उन्होंने कहा कि राजनीति में कभी वैक्यूम जैसी स्थिति नहीं होती है। साल 2019 में केंद्र की सत्ता में परिवर्तन होगा। जिनके हाथ में सत्ता है, वो अगले साल सत्ता में नहीं रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.