… तो गुजरात में गोल हो जायेगा गोलगप्‍पा

111

पानी के बताशे या पानी पूरी का क्रेज पूरे देश में देखा जा सकता है। बलिया से बंगलौर कानपुर से कोलकाता गाजीपुर से गाजियाबाद लखनऊ से लददाख तक पानी के बताशे अपनी पहचान बनाये हुए हैं। कहीं दही चटनी तो कहीं आलू मटर वाली पानी पूरी पर भी अब सरकार की नजर हैं।
गुजरात के वडोदरा में जिला प्रशासन ने पानी पुरी पर रोक लगा दी है। प्रशासन ने कहा है कि लोगों की सेहत के साथ किसी तरह का खिलवाड़ नहीं किया जा सकता। प्रशासन ने कहा है कि पानी पुरी को बनाने में साफ-सफाई और जरूरी मापदंडो की अनदेखी की जा रही है। अगर किसी तरह की ढील बरती गई तो लोगों को पीलिया, टाइफाइड और विषाक्त भोजन जैसी बीमारियां हो सकती है। हालांकि प्रशासन ने यह भी बताया कि यह प्रतिबंध अस्थायी तौर पर लगाया गया है। वहीं गुजरात के स्वास्थ्य राज्यमंत्री कुमार कानानी ने कहा, ‘अन्य शहरों में भी गोलगप्पे की बिक्री पर प्रतिबंध लगाया जाएगा। हमारी योजना है कि हम राज्यभर में चरणबद्ध तरीके से लागू किया ज जाएगा। ऐसा मौसमी बदलाव के कारण बीमारियों से बचाव के लिए किया जा रहा है। प्रशासन ने ताबड़तोड़ कार्रवाई करते हुए कई विक्रेताओं के ठिकानों पर छापेमारी कर खराब सामान भी जब्त किया है। बता दें कि मसालेदार पानी के साथ खाए जाने वाले गोलगप्पों को देश में अन्य नामों से भी जाना जाता है जैसे कि पानी पूरी, बताशे, पुचका आदि कहा जाता है। गुजरात के वडोदरा की तर्ज पर पानी पूरी पर हो रही कमाई पर भी सरकारी अफसरों की नजर है। सफाई के बहाने पानी पूरी का कहीं जायका न बिगड जाये बस खतरा है इसी बात का। हां जब बात सेहत के खतरों की हो तब ध्‍यान जरूर दीजीयेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.