करिअर फैशन से जुड़ा है लेदर टेक्नोलॉजी का क्षेत्र

173

फैशन की तेजी से चर्म उद्योग को भी नया रूप मिला है। आज चमड़े का उपयोग जूते, चप्पल, परिधान, कालीन, गद्देदार कुर्सियों, पर्दे दस्ताने, बेल्ट , बटुए आदि के रूप में विशेष रूप से हो रहा है। इस कारण इस क्षेत्र में करिअर की कई सम्भावनाएं उभरी हैं।
लेदर टेक्नोलॉजी में उच्च स्तर का प्रशिक्षण पाकर लेदर इंडस्ट्री या किसी अन्य फुटवियर कम्पनी अथवा लाइफ स्टाइल प्रोडक्ट के क्षेत्र में सुपरवाइजर, मिडिल मैनेजर, सहायक डिजाइनर, सैम्पलिंग को-ऑर्डिनेटर आदि के पद पर नियुक्त पाई जा सकती है। अनुभव और मेहनत के आधार पर हेड डिजाइनर, प्रोडक्शन मैनेजर, फैक्ट्री मैनेजर, कंट्री मैनेजर, फैशन मासडाइजर आदि के पद पर पदोन्नति पाई जा सकती है।
कम समय में प्रशिक्षण प्राप्त करके भी लेदर उद्योग के क्षेत्र में रोजगार के क्षेत्र में नाम कमा सकते हैं। अल्पकालीन प्रशिक्षण प्राप्त व्यक्ति लेदर बफर, स्प्रेयर ग्लेजर पैटर्न मेकर, मशीन ऑपरेटर, मैकेनिक डेंयर लास्टर आदि के रूप में रोजगार पा सकता है। इसके अतिरिक्त यदि प्रशिक्षित व्यक्ति चाहे तो खुद की फैक्ट्री भी लगा सकता है। इस क्षेत्र में उच्च प्रशिक्षण प्राप्त व अनुभवी व्यक्ति लेदर तकनीक से सम्बन्धित पाठ्यक्रम संचालित करने वाले संस्थानों में प्रशिक्षक के रूप में भी नियुक्ति पा सकता है। इसके अतिरिक्त लेदर वस्तुओं के आयात-निर्यात करने वाली कम्पनियों में भी अच्छे अवसर हैं। यदि कोई व्यक्ति चाहे तो लेदर के वस्तुओं की स्वतंत्र डिजाइनिंग करके भी कमा सकता है।

आमदनी की गुंजाइश
इस क्षेत्र में उच्च स्तर के प्रशिक्षण प्राप्त व्यक्ति को 10-12 हजार रुपए प्रतिमाह का आरम्भिक वेतन मिलता है। जो अनुभव, कार्य दक्षता व मेहनत के बल पर आगे बढ़ते हुए 40 हजार रुपए प्रतिमाह से अधिक भी हो सकता है। छोटे स्तर पर प्रशिक्षण के बाद जो नियुक्तियां होती हैं। उनमें आम्भिक वेतनमान 4000 से 6000 रुपए प्रतिमाह होता है।
योग्यता
उच्च डिप्लोमा प्रशिक्षण के लिए न्यूनतम योग्यता स्नातक है, जबकि स्नातक डिग्री के लिए न्यूनतम योग्यता बारहवीं है।
अवधि
स्नातक के बाद डिप्लोमा पाठ्यक्रमों की अवधि एक-दो वर्ष होती है, जबकि डिग्री स्तर के पाठ्यक्रमों की अवधि तीन या चार वर्ष होती है। बारहवीं के बाद डिप्लोमा पाठ्यक्रमों की अवधि 6 माह होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.