नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) के सदस्य के रूप में भारत ने भारी मतों से जीत दर्ज की है। मसलन भारत को संयुक्त राष्ट्र संघ (यूएनओ) मानवाधिकार परिषद का सदस्य चुना गया है। खबर में बताया गया है कि 188 वोट मिले और भारत इस प्रतिस्पद्र्धा में एतिहासिक जीत हासिल की। एशिया-प्रशांत क्षेत्र से मानवाधिकार परिषद में कुल पांच सीटें हैं, जिनके लिए भारत के अलावा बहरीन, बांग्लादेश, फिजी और फिलीपीन ने अपना नामांकन भरा था। ऐसे में भारत की जीत तय मानी जा रही थी।
संयुक्त राष्ट्र की 193 सदस्यीय महासभा में अगले तीन साल के लिए मानवाधिकार परिषद के नए सदस्यों का चुनाव किया गया है। बता दें कि परिषद के सदस्य गुप्त मतदान द्वारा पूर्ण बहुमत के आधार पर चुने जाते हैं। परिषद में चुने जाने के लिए किसी भी देश को कम से कम 97 वोटों की जरूरत होती है। भारत को 188 वोटों से जीत मिली है। नए सदस्यों का कार्यकाल एक जनवरी, 2019 से शुरू होकर तीन साल तक चलेगा। भारत पहले भी 2011-2014 और 2014 से 2017 दो बार मानवाधिकार परिषद का सदस्य रह चुका है। भारत का अंतिम कार्यकाल 31 दिसंबर, 2017 में समाप्त हुआ।
यूएन में भारत के स्थायी राजदूत सयैद अकबरुद्दीन ने ट्वीट कर इस उपलब्धि की बधाई प्रषित की है। उन्होंने ट्वीट किया कि भारत को शानदार जीत मिली है। सभी उम्मीदवारों में भारत को सबसे ज्यादा मत मिले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.