पटना एयरपोर्ट से अगवा हुए दिल्ली के दो भाईयों को पुलिस ने किडनैपर्स से छुड़ाया

170

kidnappingपटना। बिहार में जब से नितीश कुमार की सरकार बनी है। फिर क्या लूटपाट, फिरौती, अपहरण की वारदातें होने लगी है। पांच दिन पहले पटना एयरपोर्ट से अगवा किए गए थे। ये दानो व्यापारी दिल्ली के रहने वाले है। दाेनों भाइयों को पुलिस ने लखीसराय जिले से बरामद कर लिया है। पुलिस ने बुधवार की सुबह दोनों भाईयों को लखीसराय के चानान इलाके में जंगल से बरामद किया।

चार करोड़ की मांग
अपहरणकर्ताओं ने दोनों भाईयों को रिहा करने के लिए 4 करोड़ रुपये की फिरौती मांगी थी। दिल्ली के व्यापारी सुरेश शर्मा और कपिल शर्मा को बीती 21 अक्टूबर की शाम को अपहरणकर्ताओं ने पटना के एयरपोर्ट से अगवा कर लिया था। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, दोनों भाइयों की रिहाई के लिए अपहरणकर्ताओं ने चार करोड़ की फिरौती मांगी थी।

200 करोड़ का ठेका
व्यपारी सुरेश और कपिल के पिता बाबूलाल शर्मा दिल्ली के एक बड़े मार्बल व्यवसायी हैं। और उनका कारोबार दिल्ली, उत्तर प्रदेश और राजस्थान तक फैला हुआ है। अपने दोनों बेटों के अपहरण की ख़बर सुनते ही शनिवार को बाबूलाल शर्मा पटना पहुंच गए थे। उन्होंने एयरपोर्ट पुलिस स्टेशन में बेटों के अपहरण का एफआईआर दर्ज कराई थी। अपहरणकर्ताओं ने दोनों भाइयों को 200 करोड़ का ठेका देने के बहाने पटना बुलाया था और हवाईअड्डे से ही दोनों को अगवा कर लिया था।

पुलिस ने की स्पेशल इन्वेस्टेगीशन
अपहरण की ख़बर लगते ही पटना पुलिस हरकत में आ गई। दोनों भाइयों की बरामदगी के लिए पटना पुलिस ने स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम का गठन किया। और तभी से पुलिस दोनों भाइयों को तलाश कर रही थी।  बुधवार की सुबह पटना पुलिस, लखीसराय पुलिस और स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम ने एक साझा ऑपरेशन के बाद दोनों भाईयों को चानान के जंगल से बरामद कर लिया। जिस इलाके से दोनों भाइयों को बरामद किया गया है। दोनों भाइयों के अपहरण में नक्सलियों का हाथ है।

छापे की कार्रवाई के दौरान पुलिस ने मौके से पांच अपहरणकर्ताओं को गिरफ्तार किया है. पुलिस के मुताबिक पकड़े गए बदमाशों में कुछ नक्सली भी शामिल हैं। कारोबारी भाईयों को सकुशल बरामद होने से उनके परिवार ने राहत की सांस ली है। दोनों भाईयों को मुक्त कराने वाली टीम में पटना के एसएसपी मनु महाराज भी शामिल थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.