रिजर्व बैंक ने नहीं घटायी दरें, रेपो रेट 6.25% पर बरकरार

200

आज की अपनी मौद्रिक नीति समीक्षा में केंद्रीय बैंक ने रेपो रेट 6.25% पर बरकरार रखा। इसके साथ ही बैंक ने जीडीपी ग्रोथ के पिछले अनुमान में भी कटौती कर दी। रिजर्व बैंक ने मौजूदा वित्त वर्ष के लिए जीडीपी ग्रोथ की दर का अनुमान घटाकर 6.9% कर दिया। इससे पहले 7 दिसंबर, 2016 की समीक्षा में आरबीआई ने देश के आर्थिक विकास की दर 7.1 प्रतिशत रहने का अनुमान जताया था। हालांकि, अगले वित्त वर्ष 2017-18 के लिए रिजर्व बैंक ने 7.4 प्रतिशत के ग्रोथ रेट का अनुमान जताया है। इसके साथ ही, रिजर्व बैंक ने अपने नीतिगत रुख को ‘नरम’ से ‘निरपेक्ष’ कर दिया है।

मंहगाई दर 5 फीसदी से कम रहेगी
रिजर्व बैंक ने कहा है कि महंगाई मार्च 2017 में लक्ष्य के मुताबिक 5% के नीचे रहेगी। हालांकि, अप्रैल से सितंबर में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित महंगाई में और कमी की उम्मीद जताई गई है। आरबीआई के मुताबिक, इस अवधि में सीपीआई 4 से 4.5 प्रतिशत तक रहेगी। लेकिन, अक्टूबर से महंगाई बढ़कर फिर से 5 प्रतिशत तक या इससे थोड़ा ऊपर पहुंचने की आशंका है।

जीडीपी ग्रोथ मंद पड़ने की क्या वजह’
रिजर्व बैंक ने कहा है कि अर्थव्यवस्था में कमजोरी के तीन कारण हो सकते हैं। पहला, कच्चे तेल की अंततराष्ट्रीय कीमतों में वृद्धि। दूसरा, करंसी एक्सचेंज के मौजूदा ट्रेंड के मुताबिक डॉलर के मुकाबले रुपये की कीमत में और तीसरा, गिरावट आने और 7वें पे कमीशन का संभावित असर गिनाया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.