#UPElection: अखिलेश पर भड़के शिवपाल, बोले- 11 मार्च के बाद बनाएंगे नई पार्टी

97

शिवपाल यादव ने मंगलवार एक बैठक के दौरान कहा की वो 11 मार्च के बाद नई पार्टी बनाएंगे। उनके इस बयान के बाद ये तो साफ जाहिर होता है कि अभी भी चाचा-भतीजा के बीच घमासान थमा नहीं है। चुनाव की तारीखों का एलान होने के बाद पहली बार शिवपाल का इस तरह का बयान आया है। इससे पहले, उन्होंने यहां जसवंतनगर वि‍धानसभा सीट के लिए नमांकन भरा।

शिवपाल ने कहा, ‘अभी हमने पर्चा भर दिया है। आज हम जो भी हैं, नेताजी की वजह से हैं। लेकिन बहुत से लोगों ने कहा कि वे जो कुछ हैं नेताजी के वजह से हैं और उन्‍हीं लोगों ने नेताजी को अपमानित करने का काम किया। जो चाहो मुझसे ले लो, लेकिन नेताजी का अपमान बर्दास्‍त नहीं कर सकते। मरते दम तक नेताजी के साथ रहेंगे, उनका आदेश मानेंगे।’

उन्होंने कहा हम जानते है कि समाजवादी पार्टी में भी भीतरघात करने वाले लोग हैं। उनसे सावधान रहने की जरूरत है। मेहरबानी हो गई जो टिकट दे दिया, फॉर्म ए और बी दे दिया। नहीं तो निर्दलीय चुनाव लड़ना होता। हम लोग तो ज्यादातर विपक्ष में रहे हैं। बीजेपी, बीएसपी और कांग्रेस को तब हराया है जब हमारे पास कोई साधन नहीं थे। आज से 6 महीने पहले कांग्रेस की क्या हालत थी? केवल 4 सीटें जीतने की। किसका फायदा हुआ? कांग्रेस को दी, टिकट हमारे लोगों का कटा।

कांग्रेस के खिलाफ भरे पर्चा – मुलायम
इससे पहले सोमवार को दिल्‍ली में मुलायम सिंह ने पार्टी वर्कर्स से मुलाकात के दौरान कहा था कि ‘आप कांग्रेस के 105 कैंडिडेट्स के खिलाफ पर्चा भरें। मैं कांग्रेस-सपा अलायंस के लिए कैम्‍पेन नहीं करने वाला। मैंने जिंदगी कांग्रेस के खिलाफ सपा को खड़ा करने में लगा दी। मैं अब भी इस अलायंस के खिलाफ अखिलेश को मनाने की कोशिश कर रहा हूं। ये गठबंधन पार्टी को खत्‍म कर देगा। 105 सीटों पर हमारे नेता और वर्कर्स क्‍या करेंगे? सबने मेहनत की थी, अब उनका क्‍या होगा? ये ठीक नहीं है। मैं पार्टी को खत्‍म नहीं होने दूंगा।”

रविवार को राहुल-अखिलेश की ज्‍वांइट प्रेस कॉन्‍फ्रेंस और रोड शो के बाद मुलायम ने एक बयान में कहा था, “मैं इस समझौते के खिलाफ हूं। मैं कैम्पेन में भी हिस्सा नहीं लूंगा। मैं कार्यकर्ताओं से अपील करता हूं कि वो गठबंधन के खिलाफ खड़े हों और जनता तक अपनी बात पहुंचाएं।

LEAVE A REPLY