1000 और 500 के नोटों पर बैन से उड़ा बसपा का चैन

158

bsp_1478716843लखनऊ। पीएम नरेंद्र मोदी के 1000 और 500 के नोट बैन के बाद आजकल राजधानी स्थित बसपा दफ्तर में काफी गहमागहमी बढ़ गई है। बुधवार को अचानक करीब 100 गाडिय़ां बसपा दफ्तर पहुंची। बसपा दफ्तर पहुंचने वालों में न सिर्फ विधानसभा उम्मीदवार थे बल्कि पार्टी के जिम्मेदार नेता भी शामिल थे। साथ ही सभी गाडिय़ों में ब्रीफकेस और बैग भरे हुए थे। सभी गाडियां एक-एक करके अन्दर जा रहीं थीं और उनके वापस आने के बाद ही दूसरी गाड़ी को अन्दर जाने की इजाजत थी।
हालांकि बसपा नेताओं का कहना है कि यहां प्रत्याशियों की मीटिंग थी और जो बैग अन्दर गए हैं उनमें चुनाव के पम्पलेट भरे हुए थे। इन्हें प्रचार के लिए भेजा जाने वाला है। खास बात ये है कि जिस बसपा कार्यालय में अब तक केवल तीन नेताओं की गाड़ी को प्रवेश दिया जाता था, उसी कार्यालय का मुख्य द्वार सभी प्रत्याशियों की गाडिय़ों के लिए खोल दिए गए। इन सब बातों को देखते हुए सवाल उठने तो लाजमी हैं। वहीं इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री और बसपा सुप्रीमो मायावती ने 8 नवंबर को देर रात अपने मुख्य सलाहकार नसीमुद्दीन सिद्दीकी और सतीश चन्द्र मिश्रा से मुलाकात की और आनन फानन में गुरूवार की दोपहर पार्टी के प्रत्याशियों की बैठक बुलाई। वहीं इस बैठक को लेकर विपक्षी दलों ने आरोप लगाया है कि मायावती ने टिकट के बदले लिए गए नोटों की गड्डियां वापस लौटाने के लिए पार्टी प्रत्याशियों को बुलाया था, जिसे बैठक का नाम दिया गया है। पार्टी कार्यालय के भीतर ही नोटों से भरे बैग प्रत्याशियों की गाडिय़ों में रखवाए जाने थे इसीलिए उन्हें कार्यालय में प्रवेश दिया गया था।

LEAVE A REPLY