यहां से होगा युद्धों का संचालन

133

arun jetlyरक्षा मंत्री अरूण जेटली ने तीनों सेनाओं के सैन्य मुख्यालय भवन की आधारशिला रखी। यह भवन ऐसी क्षमताओं से लैस होगा जहां से भविष्य के युद्धों का संचालन हो सकेगा। इस अवसर पर जेटली ने कहा कि सरकार दिल्ली में घरेलू हवाई अड्डे के पास बनने वाले इस नए भवन के निर्माण में सभी जरूरी मदद करेगी। उन्होंने कहा, सैन्य बल अपनी सम्पत्ति का काफी अच्छे ढंग से रख रखाव करते हैं और मैं समझता हूं कि दूसरों को भी इसका अनुकरण करना चाहिए।
सेना प्रमुख जनरल बिक्रम सिंह ने कहा, जब हम भवन का खाका तैयार करेंगे तब यह ध्यान में रखेंगे कि ऐसी क्षमता तैयार करें जिससे हम इस भवन से भविष्य के युद्ध का संचालन कर सकें। उन्होंने कहा कि इसका कोई उपयोग नहीं रहेगा अगर इसमें ऐसी सुविधा उपलब्ध नहीं होगी, जहां तीनों सेना प्रमुख युद्ध के दौरान भूमिगत तल में एकसाथ बैठ सकें। तीनों सेनाओं के समन्वित रक्षा स्टाफ (आईडीएस) का गठन 1999 में पाकिस्तान के साथ करगिल युद्ध के बाद उच्च स्तरीय समिति की सिफारिशों के आधार पर किया गया था। सेना प्रमुख ने कहा कि आईडीएस से सैन्य बलों में युद्ध लडऩे के मामले में एकजुटता कायम करने में मदद मिली है। अभी सैन्य बल साउथ ब्लाक से संचालित होता है लेकिन संस्थाओं की संख्या बढऩे के साथ अलग भवन के निर्माण की जरूरत महसूस की गई। नए भवन का निर्माण करीब ढाई वर्ष में पूरा होने की उम्मीद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here