मौका मिला तो दादा बनेंगे कोच

603
dada
Saurav Ganguli

इंडियन क्रिकेट टीम को जीतने की आदत डालने वाले पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली टीम इंडिया का कोच बनने के लिए तैयार हैं. अगर दादा को यह जिम्मेदारी दी जाती है तो वह कोच बनना पसंद करेंगे. उन्होंने कहा कि यदि बीसीसीआई को लगता है कि वह कोच बनने के लिए उपयुक्त उम्मीदवार हैं, तो वह यह जिम्मेदारी निभाने के लिए तैयार हैं.

दादा के अनुसार कोचिंग में उनकी हमेशा से रुचि है, लेकिन टाइम ही बताएगा कि फ्यूचर में क्या होगा. अगर बोर्ड उन्हें एक अच्छे कोच के लायक समझेगा तो वे इसके लिए अपना योगदान देंगे. उनका कहना है कि मैं खिलाडिय़ों की क्षमता, उनकी फॉर्म और उनके विकास में कुछ बेहतरी ला सकता हूं. इसी तरीके से मैं क्रिकेट को कुछ वापस दे सकता हूं.
भारत के सबसे सफल कप्तान माने जाने वाले गांगुली ने कहा कि मुख्य काम कप्तान का होता है ओर कोच सहयोगी की जिम्मेदारी निभाता है. एक समाचार चैनल से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि  ‘कप्तान टीम का सबसे अहम हिस्सा होता है और उसे काम करने की आजादी मिलनी चाहिए. उसे कुछ फैसले मैदान के अंदर लेने होते हैं. जब मैं कप्तान था, तब उन पांच-छह सालों में ऐसे कई मौके आए, जब मैंने टीम बैठक से हटकर हालात के मुताबिक फैसले लिए. कोच केवल कप्तान की मदद करता है और खिलाडिय़ों को प्रोत्साहित करता है, लेकिन मैदान पर प्रदर्शन खिलाडिय़ों को करना होता है.Ó गांगुली का मानना है कि मैच शुरू होने के बाद कोच की भूमिका ज्यादा नहीं रह जाती, क्योंकि आखिर में मैच खिलाडिय़ों के प्रदर्शन से ही जीता जाएगा.
गांगुली से पूछा गया था कि क्या वह अगले विश्व कप के लिए खुद को कोच के रूप में देखते हैं. इसका जबाब देते हुए उन्होंने कहा, ‘विश्व कप में अभी तीन साल हैं और यदि टीम इस बीच अच्छा प्रदर्शन करेगी, तो डंकन का कार्यकाल बढ़ा दिया जाएगा. मैं समझता हूं कि हमें डंकन का समर्थन करना चाहिए. उनके पास युवा टीम है और उन्हें टीम को विदेशी धरती पर जीत दिलाने के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी. उनसे पहले गैरी किर्सटेन का कार्यकाल शानदार रहा और टीम ने उनके कार्यकाल में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया. मैं वास्तव में चाहता हूं कि डंकन के रहते हुए भी टीम अच्छे परिणाम हासिल करे.Ó
बीसीसीआइ चयन समिति का अध्यक्ष बनने के सवाल पर गांगुली ने कहा कि मोहिंदर अमरनाथ चयन समिति का अध्यक्ष बनने के लिए सही पसंद होंगे. उन्होंने कहा, ‘मुझे पूरा विश्वास है कि बीसीसीआइ सही व्यक्तियों का चयन करेगा, क्योंकि चयनकर्ता का अनुभवी होना जरूरी है. मुझे उम्मीद है कि मोहिंदर अमरनाथ मुख्य चयनकर्ता बनेंगे क्योंकि, अभी उन्होंने केवल एक साल का कार्यकाल पूरा किया है.Ó

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here