वरिष्ठ सांसद ई अहमद का निधन

63

केरल के वरिष्ठ सांसद ई. अहमद का निधन हो गया है। अहमद को संसद के केंद्रीय सभागार में मंगलवार को दिल का दौरा पड़ा था। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के संसद में अभिभाषण के दौरान अहमद बेहोश होकर गिर गए थे, जिसके बाद उन्हें आरएमएल अस्पताल में भर्ती कराया गया। देर रात करीब दो बजे उनका देहांत हो गया।

अस्पताल प्रशासन ने देर रात में उनके निधन की घोषणा की और उनकी देह उनके परिजनों को सौंप दी। 29 अप्रैल 1938 को जन्मे अहमद (78) संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) सरकार में विदेश राज्यमंत्री थे। इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग पार्टी के नेता अहमद 1991 से केरल की मलप्पुरम सीट से लोकसभा सांसद थे। अस्पताल प्रशासन के मुताबिक, कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्री जितेंद्र सिंह अहमद का हालचाल जानने आएमएल पहुंचे थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली थी।

सरकार पर निधन छिपाने का आरोप
ई अहमद के निधन की सूचना मिलने से पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी मंगलवार को देर रात राममनोहर लोहिया अस्पताल पहुंचीं थीं। उनके इस दौरे का मकसद सांसद और पूर्व मंत्री ई अहमद का हाल जानना था। सोनिया गांधी के साथ कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी, अहमद पटेल और राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद भी थे। अस्पताल प्रशासन ने इन सभी नेताओं को ई अहमद को दखने की इजाजत नहीं दी थी। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस पर कहा था कि यह सरकार का मनमाना रवैया है।

ई अहमद के परिजनों ने अस्पताल प्रशासन पर आरोप लगाया था कि उन्हें अहमद से न तो मिलने दिया जा रहा है न ही उनके पास जाने दिया जा रहा है। संसद में बजट एक फरवरी को पेश होना है। शंका जताई जा रही थी कि बजट टालना न पड़े, इस उद्देश्य से कुछ छिपाया।

LEAVE A REPLY