लखनऊ एनकाउंटर: यूपी ATS ने मास्टरमाइंड गौस मोहम्मद को किया गिरफ्तार

194

आईएस से प्रेरित हो खुरसान ग्रुप बनाकर आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने वाले सरगना गौस मोहम्मद खां उर्फ जीएम खां को यूपी एटीएस और एसटीएफ ने गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया है। उसे राजधानी के पीजीआई इलाके से पकड़ा गया। फिलहाल जांच एजेंसियां पूछताछ के जरिए लखनऊ में उसके ठिकानों का पता लगा रही हैं। मिली जानकारी के अनुसार गौस वर्ष 1978 में एयरफोर्स में भर्ती हुआ था और 1993 में कारपोरल के पद से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ली थी।

सूत्रों के मुताबिक लखनऊ में मारे गये आईएस आतंकी सैफुल्लाह को गौस मोहम्मद ही हथियारों और विस्फोटक मुहैया करा रहा था। वह सैफुल्लाह के एनकाउंटर से एक दिन पहले उससे मिलने लखनऊ भी आया था। वहीं एनकाउंटर के दौरान भी वह लखनऊ में ही मौजूद रहकर पल- पल की जानकारी ले रहा था।

यूपी एटीएस ने इस बात का दावा किया है
एक रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने बताया कि गौस मोहम्मद खान ने भारतीय वायु सेना में 15 साल सेवा दी है। वह एक कट्टर आतंकी मॉड्यूल का हिस्सा था, जो कथित तौर पर भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन बम धमाके के लिए जिम्मेदार है।

पिता से कोई हमदर्दी नहीं
मामले को लेकर पकड़े गये गौस मोहम्मद के बेटे अब्दुल कादिर का कहना है कि उसे अपने पिता से कोई हमदर्दी नहीं है। जो देश का नहीं हो सका, वह हमारा का क्या होगा? कादिर ने कहा कि उसे नहीं पता उसके पिता कहां हैं? एटीएस ने उन्हें यहां घर से गिरफ्तार नहीं किया है। हमारे परिवार की पिता से नहीं बनती थी और ना ही कोई उनसे बात करता था। पिता जी जब लखनऊ से आते थे और यहां घर में होते थे, तो लोग अक्सर उनसे मिलने आते थे। आखिरी बार कुछ दिन पहले वह घर आये थे।

उसके बाद गुरुवार को मीडिया से मालूम हुआ कि उन्हें एटीएस ने गिरफ्तार कर लिया है। उनके पास पासपोर्ट था और वह सऊदी अरब भी जा चुके हैं। गौस मोहम्मद के बेटे अब्दुल कादिर जूते बेचने का काम करते हैं। बता दें कि गौस मोहम्मद सैफुल्ला, फैसल और इमरान का दोस्त है। सभी कानपुर के जाजमऊ इलाके में एक किमी के दायरे में रहते हैं।

LEAVE A REPLY