यूपी के कानपुर में अपराधियों ने बनाया 3 ट्रेनों को निशाना, यात्रियों से की मारपीट

69

kanpur-stationकानपुर। कानपुर सेंट्रल स्टेशन के आउटर पर लखनऊ से कानपुर जा रही लोकमान्य तिलक, वैशाली एक्सप्रेस व लखनऊ कानपुर पैसेंजर में देर रात लूटपाट कर मारपीट हुई। बदमाशों ने विरोध करने पर कई यात्रियों को घायल कर दिया। घायलों को जीआरपी ने केपीएम और हैलट अस्पताल में भर्ती कराया है।

कानपुर सेंट्रल स्टेशन के आउटर पर मंगलवार की देर रात दो सुपरफास्ट ट्रेन और एक पेसेंजर ट्रेन में यात्रियों के साथ बादमाशों ने मारपीट का अंजाम दिया। ये सभी अपराधी हथियारों से लैस थे। ट्रेनों में मारपीट करने के बाद लूटपाट की और उसके बाद सब भाग निकले। ट्रेन जब कानपुर सेंट्रल पहुंची तो यात्रियों ने इसकी जानकारी जीआरपी को दी। जिसके बाद तीन घायल यात्रीयों को जीआरपी ने इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाया।
 
बदमाशों ने लखनऊ से मुंबई जाने वाली लोकमान्य तिलक को पहले निशाना बनाया। एक यात्री रमाशंकर पाण्डेय ने इसका विरोध किया तो बदमाशों ने मिलकर जमकर पीटाई कर दी। जिससे रमाशंकर पाण्डेय बुरी तरह से घायल हो गए। इसके बाद बदमाशों ने वहां से गुजर रही वैशाली एक्सप्रेस को अपना निशाना बनाया। ट्रेन जैसे ही आउटर पर रुकी बदमाशों ने ट्रेन में लूटपाट शुरू कर दी।
 
वैशाली में सफर कर रही है गोरखपुर की देवी सिंह ने विरोध किया तो उनको भी बदमाशों ने जमकर पीट दिया। उसके बाद लखनऊ-कानपुर पैसेंजर में सफर कर रहे शुक्लागंज उन्नाव निवासी लाला के साथ भी लूट हुई। कई अन्य पैसेंजर भी घायल हुए हैं। जीआरपी के प्रभारी निरीक्षक श्याम व्रत यादव ने बताया कि तीन ट्रेनों में बदमाशों ने यात्रीयों से मारपीट करने के बाद लूटपाट की है। घायलों को इलाज के लिए अस्पताल भेज गया है।

केस दर्ज कर कानूनी कार्रवाई की जा रही है और बदमाशों की तलाश की जा रही है। प्रतापगढ़ के रहने वाले घायल रमाशंकर बताया कि इलाज के लिए लखनऊ गए थे। वहां से झांसी जा रहे थे कानपुर से पहले आउटर पर ट्रेन धीमी हुई तभी अचानक तीन-चार लोग चढ़ गए। उन्होंने कहा कि गेट के बगल में मैं बैठा था इसलिए बदमाशों का पहला टारगेट मैं ही बना। हमने मना किया तो उन लोगों ने मेरे पैर पर धारदार हथियार से हमला कर दिया। मेरा बैग छीन लिया। उसमें 10 हजार रुपए और जरूरी कागजात थे।

LEAVE A REPLY