योगी जी, बच्‍चे स्‍कूल में पढें कि घास खोदें

45

जय हिंद कुमार

प्रधानाध्‍यापक की घोर लापरवाही से स्‍कूल बना जंगल न पीने को पानी न पढने को सुरक्षित जगह

सांथा ब्‍लॉक के साडा गांव के स्‍कूल में बच्‍चे पढें तो कैसे पढे। प्रधानाध्‍यापक नहीं दे रहे ध्‍यान। पीने का पानी तक नहीं। बडी बडी घास से सांप बिच्‍छुओं का डर हमेशा बना रहता है। मां बाप अपने बच्‍चों को यहां पढने नहीं भेजना चाहते।
सांथा संतकबीरनगर विकास खंड साथाँ क्षेत्र के साडाँ गांव मे लगा गंदगी का अंम्बार विद्यालय के अंदर बड़ी बड़ी घास जमा हो गई है। जिसमें प्रधानाध्यक मक्खू प्रसाद के साथ ही संतोष कुमार एवं अफरोज सहायक अध्यापक के रूप में तैनात है। इस विद्यालय के साफ सफाई पर यहाँ के प्राध्यापक द्वारा ध्यान नही दिया जाता है। पूरे प्राथमिक विद्यालय के अंदर हैन्ड पंप भी खराब है और बच्चों को पानी पीने के लिए दूसरे स्थान जाना पड़ता है। साफ सफाई नही होने की वजह से स्कूल के अंदर बड़ी बड़ी घास जमा हो गई है। और बाथरूम भी स्कूल के अंदर पूरा गंदगी से भरा हुआ है। नहीं ग्राम प्रधान का कहना है कि हमारे यहां लगभग 4 या 5 महीने हो गए कोई सफाई कर्मी तैनात नहीं है हमने इसकी शिकायत वीडियो ऑडियो पंचायत को कई बार दी लेकिन इस पर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं मेरे गांव में पूरे गांव में गंदगी का लगा अंबार वही विद्यालय में हैंडपंप खराब है जो बच्चे को पानी पीने के लिए बाहर जाना पड़ता है ग्रामीण एजाज अहमद,राम प्रसाद, एजाजनुलाह, शेषनाथ,अब्दुल कादिर, छोटेलाल का कहना है कि प्राध्यापक अपने मनमर्जी से जब मन तब घर समझ कर विद्यालय आते हैं और इन लोगो ने कहा कि यहाँ मिड डे मील भी नियमित नहीं बनता है। सभी का कहना है कि जल्द से जल्द विद्यालय की व्यवस्था सुधार कर योगी जी के शिक्षा के प्रति उद्देश्य को पूरा करे।

LEAVE A REPLY