‘वरदा’ तूफान ने देश में कम की इंटरनेट की रफ्तार

80

07_03_2014-7webएयरटेल के ब्रॉड और इंटरनेट उपभोक्ताओं को अगले कुछ दिन तक देश में कम स्पीड मिलने की शिकायत हो सकती है। कंपनी ने एक बयान में कहा है कि समुद्र के नीचे केबल्‍स को चेन्‍नई में आए ‘वरदा’ तूफान से नुकसान पहुंचा है। एयरटेल के प्रवक्‍ता ने कहा, ”चेन्‍नई तट पर कल (सोमवार) आए चक्रवात की वजह से समुद्र के नीचे हमारी अंतर्राष्ट्रीय केबल्स क्षतिग्रस्त हुई हैं और कुछ हद तक इंटरनेट ट्रैफिक प्रभावित हुआ है। परिणाम के तौर पर कुछ लोकेशंस पर ग्राहकों को धीमी इंटरनेट/डाटा स्‍पीड मिल रही होगी।” कंपनी ने ग्राहकों को इस संबंध में सूचना भेज दी है। प्रवक्‍ता ने कहा, ”हमारी टीमें जल्‍द से जल्द स्थिति को सामान्य करने के लिए काम कर रही हैं। अंतर्राष्ट्रीय इंटरनेट ट्रैफिक को डायवर्ट करने के लिए भी बंदोबस्‍त किए जा रहे हैं।” चक्रवाती तूफान ‘वरदा’ के चेन्नई से गुजरने के एक दिन बाद शहर में तबाही का मंजर है, हजारों पेड़ उखड़ चुके हैं, बिलबोर्ड जमीनदोज हो चुके हैं, टेलीफोन और बिजली के तार भी टूट गए हैं जबकि निचले इलाकों अभी जलमग्न हैं।
शहर में हालात सामान्य हो रहे हैं और विमान सेवा आज सुबह शुरू कर दी गई। बीते दो दशक में तमिलनाडु की राजधानी में आए सबसे शक्तिशाली तूफान के कारण चार लोगों की मौत हो गई, संचार साधन ठप पड़ गए, घर ढह गए और रेल, सड़क तथा वायु यातायात अस्तव्यस्त हो गया। आज सुबह से बारिश बंद है, लोग सड़कों पर उतर आए हैं और चाय के ठेलों पर भीड़ देखी जा सकती है।बस स्टॉप और रेलवे स्टेशन पर भी लोग इंतजार करते दिखे, यहां कुछ सेवाएं बहाल हो चुकी है। दक्षिण रेलवे ने बताया कि एमएससी, सुलुरपत्ता, अरक्कूनाम खंड में सेवाएं आंशिक रूप से बहाल की गई है जबकि व्यस्त तांबाराम-चेंगालपत्तू मार्ग पर सेवाएं अभी शुरू नहीं की गई। चेन्नई हवाईअड्डे पर निलंबित की गई उड़ान सेवाओं को बहाल कर दिया गया है।
चेन्नई, तिरुवल्लुर और कांचीपुरम में भारी बारिश और तेज हवाओं का जोर रहा। सौ किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बह रहीं हवाओं से बड़ी संख्या में पेड़ गिर गये, होर्डिंग उड़ गये और कारें भी पलट गयीं। निचले इलाकों में रहने वाले हजारों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया।

LEAVE A REPLY