1600 करोड़ का पड़ेगा एक राफेल, जानिए और क्‍या है इसकी खासियत…

236

indiatv52b4d7_indiatv_rafelplanes

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार ने फ्रांस से राफेल लड़ाकू विमान खरीदने का सौदा किया हैं। 36 राफेल की कीमत 57,600 करोड़ रुपये  है। यानी एक लडाकू विमान 1600 करोड़ रुपये का होगा। पिछले 20 वर्ष में लड़ाकू विमानों का यह पहला सौदा भारत ने किया है। केंद्रीय रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर और फ्रांस के रक्षा मंत्री ज्यां वेसले द्रां ने शुक्रवार को सरकारी कागजात पर साइन किए। यह भारत सरकार में मोदी का सबसे बड़ा रक्षा सौदा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2015 में फ्रांस यात्रा के दौरान इसकी घोषणा की थी। सूत्रों ने अनूसार राफेल लडाकू विमान की कीमत की जानकारी देते हुए कहा कि इस सौदे में 50 पर्सेंट ऑफसेट का प्रावधान भी होगा। लेकिन कीमतों और ऑफसेट प्रावधान पर मसला अभी अटका रहा है। इससे ये तय है कि भारतीय कंपनियों को लगभग तीन अरब यूरो का कारोबार मिलेगा। डसॉल्ट पहले सिर्फ 30 पर्सेंट ऑफसेट रखना चाहती थी। इसके तहत फ्रांस सौदे की कुल कीमत का आधा हिस्सा भारत के डिफेंस सेक्टर में निवेश करेगा।

क्या है राफेल विमान की खासियत?

– राफेल लड़ाकू विमानों को फ्रांस की डसाल्ट एविएशन कंपनी बनाती है। यह एक बहुउपयोगी लड़ाकू विमान है।
– एक विमान की किमत 1600 करोड है। इसकी लंबाई 15.27 मीटर है और इसमें एक से दो पायलट बैठ सकते हैं।
– जानकारी के मुताबिक है कि राफेल ऊंचे इलाकों में लड़ने में माहिर है। ये विमान एक मिनट में 60 हजार फुट की ऊंचाई तक जाता है। हालांकि अधिकतम भार उठाने की क्षमता 24500 किलोग्राम है।
– विमान में ईंधन क्षमता 4700 किलोग्राम है। विमान की अधिकतम रफ्तार  2500 तक किमी प्रति घंटा है और इसकी रेंज 3700 किलोमीटर है।
– इसमें 1.30 एमएम की एक गन लगी है जो एक बार में 125 राउंड गोलियां निकाल सकती है।
– राफेल में घातक एमबीडीए एमआइसीए, एमबीडीए मेटेओर, एमबीडीए अपाचे, स्टोर्म शैडो एससीएएलपी मिसाइलें भी लगी रहती हैं।
– इसमें थाले आरबीई-2 रडार और थाले स्पेक्ट्रा वारफेयर सिस्टम लगा होता है। साथ ही इसमें ऑप्ट्रॉनिक सेक्योर फ्रंटल इंफ्रा-रेड सर्च और ट्रैक सिस्टम भी लगा है।
– अमेरिका, जर्मनी और रूस भी चाहते हैं कि भारत उनसे लडाकू विमान खरीदें। अमेरिका भारत को एफ-16 और एफ-18, रूस मिग-35, जर्मनी और ब्रिटेन यूरोफाइटर टायफून और स्वीडन ग्रिपन विमान बेचना चाह रहे थे, लेकिन मोदी सरकार ने राफेल को खरीदने का फैसला किया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here