सुप्रीम कोर्ट ने शहाबुद्दीन की जमानत रद्द की, जेल वापसी तय!

134

shahabuddin_4_ge_09010016

राजद के विवादित नेता और बिहार के बाहुबली शहाबुद्दीन की जमारत रद्द करने पर सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को अपना फैसला सुनाते हुए पटना हाई कोर्ट के फैसले को पलट दिया है। अब शहाबुद्दीन एक बार फिर जेल जा सकते हैं।
इससे पहले बुधवार को सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने बिहार सरकार को कड़ी फटकार लगाई थी। कोर्ट का कहना था कि शहाबुदीन को चार्जशीट न देना गंभीर बात है और इसका असर हमारी सोच पर पड़ेगा क्योंकि हम तथ्यों और रिकॉर्ड पर जाएंगे केस के परसेप्शन पर नहीं। बिहार सरकार इसका जवाब नहीं दे सकी कि शहाबुदीन को चार्ज शीट क्यों नहीं सर्व की गई। 9 माह तक चार्जशीट अभियुक्त को न देना बेहद गंभीर है।
कोर्ट ने कहा था कि शहाबुद्दीन के खिलाफ अभी तक सभी मामलों में राज्य सरकार सोई रही और पैरवी करने में ढिलाई बरती जिसकी वजह से उसे हाइकोर्ट से जमानत मिल गई। बुधवार को पीठ की अध्यक्षता कर रहे जस्टिस पीसी घोष ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के दो आदेश हैं जिनमें उन्हें हिस्ट्रीशीटर माना गया है। क्या ये गलत कहे जा सकते हैं। कोर्ट ने आगे कहा, हम इस बारे में बहुत स्पष्ट हैं कि हिस्ट्रीशीटर को जमानत नहीं दी जा सकती। यह कहकर कोर्ट ने सुनवाई गुरुवार तक स्थगित कर दी।
इससे पहले सुनवाई के दौरान जस्टिस घोष और जस्टिस अमिताव रॉय की पीठ ने बिहार सरकार से पूछा कि क्या शहाबुद्दीन की जमानत अर्जी की सुनवाई के समय अभियोजन अधिकारी कोर्ट में गए थे। हाईकोर्ट को क्या यह बताया गया था कि ट्रायल शुरू होने में नौ माह की देरी शहाबुद्दीन के कारण ही हुई है। क्योंकि उन्होंने हत्या के मामले में संज्ञान लेने के फैसले को रिवीजन कोर्ट में चुनौती दे दी थी जिससे पूरा रिकॉर्ड वहां चला गया और ट्रायल शुरू नहीं हो पाया। सरकारी वकील ने कोर्ट को बताया था कि अगस्त में दाखिल जमानत अर्जी 7 सितंबर को सुनवाई के लिए लगी और उसी दिन हाईकोर्ट ने जमानत का आदेश पारित कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here